मेरी बीवी सबसे चुदती है इसीलिए मैंने भी लिया बदला

hindi sex stories

मेरा नाम प्रेम है और मैं जबलपुर के गौर दी के पर रहता हूँ | मेरी उम 35 साल है और मैं शादी शुदा आदमी हूँ | मेरी बीवी जिसका नाम सुहाना है वो दिखने में बहुत सुन्दर है और उसका फिगर भी बहुत सॉलिड है बॉस | वो दिखने में गोरी है और उसको मैंने इसीलिए पसंद किया क्यूंकि उसके गुलाबी होंठ और नीली आँखे हैं | उससे मुझे दो बच्चे हैं एक रिषभ और दूसरी रिया | मेरे दोनों ही बच्चे केंद्रीय विद्यालय में पढ़ते हैं | मैं पहले आर्मी में था लेकिन मुझे आर्मी की नौकरी पसंद नही आई तो मैंने बीच में ही नौकरी छोड़ने का फैसला ले लिया | मैं जहाँ रहता था वहां तो मेरे कई साथी लोग थे | मेरे पास हमेशा फ़ोन आया करता था कि तेरी बीवी इससे चुद रही है तो तेरी बीवी कभी उससे चुद रही है |

मैं कहता था कि रुक जा उसकी माँ चोदता हूँ उसकी बहन चोदता हूँ | लेकिन मैं कुछ कर नहीं पाता था क्यूंकि मैं तो खुद ही तीन महीने में एक बार घर जाता था और वो भी एक हफ्ते के लिए | मैं खुद जानता था कि जब मैं खुद ही चुदाई के बगैर तड़पता रहता हूँ तो वो भी तो चुदाई के लिए तडपती रहती होगी | बस फर्क इतना था कि मैं चुदाई नहीं कर पाता था और वो वहां अपनी चूत की बहुत अच्छे से मरम्मत करवाती थी | यही वजह थी कि मुझे अपनी नौकरी चोधना पड़ा | जब मैं अपनी नौकरी छोड़ कर आया तो मेरे बच्चो ने मुझसे पुछा कि पापा अब तो आप कहीं नहीं जाओगे न ? तो मैंने कहा नहीं बच्चो अब मैं कहीं नहीं जाऊँगा लेकिन हाँ नौकरी तो करना पड़ेगा इसलिए नौकरी करूँगा लेकिन तुम लोगो के साथ मैं अपना समय ज्यादा से ज्यादा निभाऊंगा | तुम लोगो के बगैर मेरी जिन्दगी बहुत वीरान थी | उसके बाद से मैं नौकरी ढूँढने निकल पड़ता था | काफी समय तक तो मुझे नौकरी नहीं मिली पर मैंने एक चीज़ जरुर नोटिस किया कि मेरे घर में एक आदमी बच्चो को कोचिंग पढ़ाने आता था लेकिन जब से मैं यहा आया वो एक बार भी कोचिंग पढ़ाने नहीं आया ये सब मुझे बच्चो से पता चला | मैं समझ चुका था कि दाल में कुछ काला था लेकिन मैंने अपनी बीवी से कुछ नहीं कहा |

एक दिन मैं अपने दोस्तों के साथ शराब पी कर घर आया और मेरी बीवी ने दरवाजा खोला तो मेरा दिमाग ख़राब हो गया उसे देख कर  | मैंने जाते ही साथ कहा तेरी माँ का चूत रंडी मैं जब तक यहाँ नहीं था तब तक तो तूने बहुत अपनी चूत चुदवाई है कई के साथ | तो उसने कहा सुनिए आप घर के अन्दर आइये बाहर वाले सुनेंगे तो क्या कहेंगे | मैंने कहा तेरी बहन की चूत रंडी छिनार जब तू चुद्वाती थी और दूसरे लोगो को पता चलता था तब तूने मुझसे तो कहा नहीं की अब क्यूँ तेरी माँ चुद रही है जब मैं सही बात बोल रहा हूँ | हम दोनों के बीच झगडा हो रहा था और ये सुन कर बच्चे जाग गए | फिर मैं शांत हो गया मैं घर के अन्दर गया और फिर खुद ही खाना खा कर सो गया | सुबह उठा तो मेरी बीवी मुझसे नाराज थी और मेरे बच्चे मुझसे पूछ रहे थे कि पापा क्या हो गया था कल रात को आपको ? मैंने कहा बेटा कुछ नहीं बस थोडा सा नशा हो गया था | मुझे बच्चो के सामने बहुत शर्मिंदगी हो रही थी फिर मैंने नाश्ता किया और घर से बाहर निकल कर तालाब के सामने अपने दोस्तों के साथ बैठ गया |

उसके बाद एक लड़की आई जिसका नाम सुजाता था उसने मुझसे पुछा कि बाबु जी यहाँ पर कोई काम मिलेगा क्या ? तो मैंने कहा हाँ तुम मेरे यहाँ काम कर सकती हो | फिर मैं उसे अपने घर ले कर गया और उसे बता दिया कि ये मेरी बीवी है और ये मेरे बच्चे हैं स्कूल जाने के समय इनको नाश्ता बना कर दिया करना और मेरी बीवी अपने लिए खुद खाना बना लेती है इसलिए बस मेरे लिए खाना बनाना और बच्चो के लिए लंच भी बना कर रख देना तो मैं उन लोगो के लिए लंच ले जा कर दे दिया करूँगा | मैंने उसे पगार में 4000 रूपए और रहने के लिए अपने घर में अलग से रूम दे दिया | मेरी बीवी ने मुझसे पुछा की मेरे होते हुए तुम्हे इसको लाने की क्या जरुर थी ? तो मैंने कहा तुमसे मुझसे कोई बात नहीं करना है | इसके बाद हम दोनों में मन मुटाव हो गया | मैंने एक दिन अपनी नौकरानी से कहा अगर तुम्हे दस हजार रूपए तनखा चाहिए तो मेरे साथ सेक्स कर सकती हो क्या ? तो उसने कहा कि साहब मेरा पति भी है और मैं उसके साथ बहुत खुश हूँ तो मैंने कहा देखो मैं तुम्हे पैसे दूंगा इस काम के तुम चिंता मत करो | मेरी बीवी मुझसे गुस्सा हो कर अपने मायके चली गई है तो उसने कहा फिर ठीक है मालिक | उस दिन तो सन्डे था इसीलिए मैंने उसे कहा कि कल सुबह मेरे बच्चे स्कूल चले जायेंगे तब हम सेक्स करेंगे | उसने भी कहा ठीक है |

अगले दिन जब मेरे बच्चे स्कूल चले गए तो मैं मेडिकल शॉप गया और वहां से एक वैग्रा की गोली और एक कंडोम ले कर आया | उसके बाद जब मैं घर आया तो और खाना खा कर एक गोली खाया और उसके बाद मेरा लंड खड़ा गया तो मैं किचिन के तरफ गया और वो उस समय बर्तन साफ़ कर रही थी तो मैंने उसे पीछे से जा कर पकड़ लिया | तो वो एक दम से डर गई तो मैंने कहा कि जान डर क्यूँ रही हो मैं ही हूँ | फिर मैं उसको चूमते हुए उसके दूध भी दबा रहा था और वो मेरा साथ दे रही थी | उसके बाद मैंने उसे अपनी तरफ घुमा लिया और उसके होंठ में अपने होंठ रख कर उसके होंठ को चूसने लगा तो वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे मेरे होंठ को चूसते हुए मेरा साथ देने लगी  | मैंने उसके होंठ को चूसते हुए उसके दूध भी दबा रहा था और वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे बदन पर अपने हाँथ फेर रही थी | उसके बाद मैंने उसकी साड़ी उतार दिया और अब वो मेरे सामने ब्लाउज और पेटीकोट में थी |

फिर मैंने उसके ब्लाउज को भी उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही उसके बड़े बड़े दूध को मसल रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | फिर मैंने उसके ब्रा को उतार कर उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर मसल कर चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे चेहरे को को सहलाने लगी | मैं उसके दोनों दूध को बारी बारी से जोर जोर से मसल कर चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रही थी | फिर मैंने उसके पेटीकोट को उतार दिया और पेंटी को उतार कर उसे पूरी नंगी कर दिया और उसकी चूत को देख कर मैं एक दम पागल सा हो गया | मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया और उसके पैरो को अलग कर के उसकी चूत को चाटने लगा तो वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए जोर जोर से सिस्कारियां लेने लगी |

मैं उसकी चूत को चाट चाट कर साफ कर रहा था और चूत के दाने को भी होंठ से चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने दूध को मसल रही थी | उसके बाद मैंने अपने कपड़े उतार दिया और लपक कर मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर चाटने लगी तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | वो मेरे लंड को जीभ घुमा घुमा कर चाट रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने सीने पर हाँथ फेर रहा था | कुछ देर के बाद उसने मेरे लंड को अपने मुंह में डाल कर चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके दूध के निपल्स को मसलने लगा | वो मेरे लंड को जोर जोर से ऊपर नीचे करते हुए चूस रही थी और मेरे लंड के नीचे की दोनों गोतिओं को सहला रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रहा था लंड चुसाई के |

फिर उसने मेरे गोटों को भी अपने मुंह में ले ले कर चूनसे लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके माथे पर अपने लंड से प्यार भरे वार कर रहा था | फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत में सेट किया और उसकी चूत के अन्दर अपने लंड आधा ही घुसेदा कि उसकी चीख निकल गई और उसने मुझे अपना लंड बाहर निकालने को कहने लगी तो मैंने भी अपना लंड बहार निकाल लिया तो वो कहने लगी कि आपका लंड बहुत मोटा है मेरी चूत में नहीं जायेगा | मैंने कहा डार्लिंग एक बार अन्दर तो लो मजा ही आ जायेगा | उसने कहा ठीक है और फिर से मैंने अपने लंड को उसकी चूत में लगा कर धीरे धीरे अन्दर डाल दिया और उसकी चूत को धीरे धीरे चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | जब मेरा लंड उसकी चूत में एक दम सेट हो गया तो मैं जोर जोर से उसकी चूत में शॉट मारते हुए चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई में साथ देने लगी अपनी कमर हिला हिला कर | फिर मैंने उसे पलटा दिया और उसकी चूत को एक बार और चाट कर पीछे से अपना लंड डाल कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई के मजे ले रही थी | थोड़ी देर के बाद मैंने अपना वीर्य उसके दूध पर झड़ा दिया |