मैं कैसे बनी कॉल गर्ल

hindi chudai ki kahani

मेरा नाम मीना है और मैं गुजरात की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 24 साल है और मैं एक कॉल गर्ल हूँ पर मैं हमेशा से ये सब काम नहीं करना चाहती थी क्यूंकि कॉल गर्ल कोई अपनी मर्जी से नहीं बनता बल्कि कुछ परिस्थिति ऐसी बन जाती है कुछ मजबूरी ऐसी आ जाती है जिस वजह से लड़कियों को ये कदम उठाना पड़ता है | मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ जिस वजह से मैं एक नामी कॉल गर्ल हूँ | मेरा रंग गोरा है, और मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है और रही बात फिगर की तो सुनिए मेरा फिगर 32-36-38 है | समझ ही गए होंगे कि मेरा ऐसा फिगर कैसे बन गया | ऐसे फिगर के लिए मुझे कई बार कई लोगो के नीचे लेटना पड़ा तब जा कर मेरा ऐसा फिगर बना | क्या करूँ मजबूरी ही ऐसी थी | ये जो मैं आप लोगो को अपनी दास्तान बताने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मैं इसे आप लोगो के साथ इसीलिए शेयर कर रही हूँ क्यूंकि लोग सिर्फ चुदाई चाहते हैं और कॉल गर्ल को रंडी कहते हैं | मैं इस कहानी के माध्यम से ये बताना चाहती हूँ कि कॉल गर्ल बनी कैसे और किस वजह से लड़कियाँ कॉल गर्ल बनती हैं | हमारा समाज बहुत ही अजीब है | दूसरो की बहु बेटी किसी और से चुद्वाए तो रंडी और खुद की बहु बेटी चुदे किसी और से तो लड़का गलत | खैर ये अपना समाज है जो कभी नहीं बदलेगा | चलो तो अब मैं अपनी कहानी शुरू करती हूँ |

मेरे घर में, मेरे पापा जो दो साल से लकवा के शिकार हैं अब उनसे काम तो हो नहीं सकता तो मम्मी ही झाड़ू कटका करके दूसरो के यहाँ से पैसा कमाती थी | मेरी माँ ने बहुत बुरे दिन देखे लेकिन हमे कभी बुरे दिन देखने नही दिए | मैं अपने घर में सबसे बड़ी बेटी हूँ और मुझसे छोटी दो बहन और हैं | मेरी माँ को जब काम नहीं मिलता था तो मेरी माँ दूसरो के घर आया का काम कर के हम तीनो बेटियों को पढाया | जब मैं बड़ी हुई समझदार हुई तब मुझे ये एहसास हुआ कि अब मैं खुद भी कमा सकती हूँ और अपनी बहनों को पढ़ा भी सकती हूँ | मैं शुरू से ही पढ़ाई में अच्छी थी और हर बार अव्वल आती थी | इसिलए जब मैं कक्षा 11वी में थी तो मैंने छोटे छोटे बच्चो को घर में ही पढ़ाना चालू कर दी और उससे जो भी पैसे बनते तो वो मैं अपनी बहनों के लिए पैसे बचा कर रख लेती | मैं नहीं चाहती थी कि मेरी बहनों का भविष्य ख़राब हो | जब मैं 12वी पास हो कर कॉलेज गई तब वहां एडमिशन के लिए मुझे डोनेशन देना पड़ रहा था तो मैंने सोचा कि पढाई कहीं से भी कर लो सिक्षा तो हर जगह एक सी ही मिलती है इसलिए मैंने सरकारी कॉलेज में एडमिशन ले लिया जहाँ फीस कम लगती थी | मैं सरकारी नौकरी की भी तैयारी करती थी कि कहीं शायद मेरा सिलेक्शन हो जाये तो मेरे घर के हालात सुधर जायेंगे | पर कहते हैं न कि मुसीबत आती है तो बहुत कुछ सिखा कर जाती है पर मेरे साथ ऐसा नहीं हुआ बल्कि मुसीबत और बढ़ गई | मैं कॉलेज के सेकंड ईयर में थी और तब मेरी माँ चल बसी | अब मेरी समझ में ये नहीं आ रहा था कि अब मैं पापा का इलाज काराऊ या बहनों को पढ़ाऊ या अपने कॉलेज की पढाई पूरी करूँ | क्यूंकि मैं जितना भी कमाती थी उससे ये सब काम एक साथ नहीं हो सकते थे | ये सब दिक्कतों की वजह से मैंने अपनी पढ़ाई छोड़ दी | अब मैं काम ढूंढने लगी पर मुझे मुझे काम नहीं मिल रहा था |

जितना पैसा मैंने अब तक जमा किया हुआ था वो तो जैसे तैसे काम आ रहा था लेकिन आखिर कब तक ये पैसा काम आता | मैं एक झरने के किनारे बैठे सोचने लगी कि क्या किया जाए | मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा था |  मैं घर वापस आ रही थी तभी मेरी एक दोस्त मुझे रस्ते में मिली | मैंने उससे पुछा कि तू क्या कर रही है आज कल ? तो उसने कहा कि यार मैं एक कॉल गर्ल हूँ | उस समय मुझे इसका मतलब नहीं पता था तो मैंने पुछा कि इसका क्या मतलब होता है ? तो उसने बताया कि यार सेक्स के बदले पैसे मिलते हैं तो मैंने ऐसे ही पूछ लिया कि कितना मिलता है ? तो उसने कहा कि एक बार सेक्स का मुझे 5000 मिल जाता है | ये सुन कर मैं हैरान हो गई और मैंने उससे उसका नंबर मांग लिया | घर आ कर मैं सोचने लगी कि यार एक न एक दिन मुझे किसी न किसी के साथ सेक्स करना ही है और घर के हालात देखते हुए शादी के बारे में मैं अभी सोच नहीं सकती तो मैंने अपनी फ्रेंड को कॉल किया और कहा कि मुझे भी ये काम करना है | उसने कहा ठीक है और उसने मुझे एक एड्रेस दिया और मैं उसके बताये पते पर चली गई | वहां पर मुझे एक आदमी मिला जो दिखने में ठीकठाक ही था पर उसका शरीर किसी पहलवान जैसा था | उसने मुझे नगद 3000 दिए और वो पैसे मैंने रख लिए | उसने मुझसे पुछा कि क्या तुम तैयार हो तो मैंने कहा हाँ | फिर उसने मुझे अपनी बांहों में पकड़ कर मुझे सहलाने लगा | ये सब मेरे लिए नया था इसलिए मुझे थोडा अजीब और थोडा अच्छा भी लग रहा था | उसके बाद  उसने मेरे होंठ से अपने होंठ को लगा कर मुझे किस करने लगा और मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठ को किस करने लगी | वो मेरे होंठ को पीते हुए मेरे बूब्स भी दबा रहा था और मैं उसके होंठ को पीते हुए उसके बदन को सहलाने लगी | कुछ देर तक हम दोनों एक दूसरे के होंठ को किस किया और फिर उसने मेरे सूट को उतार दिया और मेरे ब्रा के उपर से ही मेरे बूब्स को दबाने लगा तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आवाज़ निकलने लगी | फिर उसने अपने हाँथ से मेरे ब्रा को निकाल दिया और मेरे बूब्स को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिसकियाँ लेने लगी |

वो मेरे बूब्स को जोर जोर से दबाते हुए चूस रहा था और निप्पलस भी बीच बीच में काट रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके सिर पर हाँथ फेर रही थी | उसके बाद उसने अपने कपड़े उतार दिया और मुझे अपने लंड को चूसने को कहा | मैंने आज तक लंड नहीं चूसा था किसी का इसीलिए ये मेरे लिए थोडा मुश्किल था तो उसने मुझे ब्लू फिल्म में लंड चूसना दिखाया तो मैं समझ गई | अब मैं उसके लंड पर अपनी जीभ फेर कर चाट रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिसकियाँ लेने लगा | मैं उसके लंड को एक दम वैसे ही चाट रही थी जैसा ब्लू फिल्म में लड़की चाट रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रहा था | उसके बाद मैंने उसके लंड के टॉप को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे बूब्स को दबाने लगा |

फिर मैंने उसके लंड को थोडा और अन्दर लिया और चूसने लगी आगे पीछे करते हुए और वो मस्ती की सिसकियाँ भरते हुए मेरे मुंह में अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा | फिर उसने मेरे सलवार को उतार दिया और मुझे पेंटी में खड़ा कर के कुछ देर निहारने के बाद उसने मुझे लेटा दिया और फिर मेरी पेंटी को भी उतार दिया | अब मैं एक दम नंगी ही लेटी थी और बेशर्म हो कर उसकी चुदाई का इन्तेजार कर रही थी | उसने मेरी दोनों टांगो को चौड़ा कर दिया और मेरी चूत को चाटने लगा और मैं मज़े लेते हुए अपने बूब्स को दबाने लगी | वो मेरी चूत को चाटते हुए चूत की झिल्ली को भी चूस रहा था अपने होंठ में दबा कर और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए झड़ गई | फिर उसने अपने लंड को मेरी चूत में लगाया और एक धक्के में अन्दर डाला और तो उसका सिर्फ टॉप ही अन्दर गया और मेरी चीख निकल गई तो उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया | मेरी चूत से खून भी बहने लगा था लेकिन उसको कोई मतलब नहीं था | उसने फिर से अपने लंड को मेरी चूत में टिका दिया और एक ही धक्के में अपना लंड मेरी चूत में पूरा पेल दिया और चोदने लगा धक्के लगाते हुए और मैं सिस्कारियां लेते हुए चुदाई के मजे लेने लगी दर्द से करहाते हुए | वो धक्के मार मार कर मेरी चूत को चोद रहा था और मेरे बूस्ब को भी दबा रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी कमर उठा उठा कर चुदाई में साथ दे रही थी |

थोड़ी देर के बाद मेरी चूत ने फिर से पानी छोड़ दिया था लेकिन वो अब तक डटा रहा और मेरी चूत को जोर जोर से धक्के मार मार कर चोद रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | करीब उसने मुझे आधे घंटे तक चोदा और फिर मेरे ऊपर ही अपना माल छोड़ दिया | उसके बाद उसने मुझे 2000 रूपए और दिए और कहा कि ये पैसे मैं तुम्हारी चूत के लिए दे रहा हूँ | मैं खुश हो कर वापस अपने घर आ गई और उसके बाद मुझे कई जगह से कॉल आने लगे और मैं सभी का साथ देते हुए एक सफल कॉल गर्ल बन गई | उसके बाद मुझे पैसे की कोई दिक्कत नहीं हुयी और मैंने सोचा चलो इस काम को ज्यादा नहीं करुँगी पर किस्मत में जो लिखा होता है वो तो होता ही है और मैंने ये बात सोचके सब एडजस्ट कर लिया |